बाय में भागवत कथा में सजाई रुक्मणी विवाह की झांकी

खबर - राकेश सोनी 
कोलसिया। बाय  गांव में चल रही भागवत कथा में शुक्रवार को रुक्मिणी विवाह की कथा सुनाई।कथावाचक संत श्री हरिदास जी ने कहा कि जीवन मे प्रेमभाव ही भगवान को प्राप्त करने का सच्चा मार्ग है। व्यक्ति ईश्वर को तभी प्राप्त कर सकता है जब वह काम, मोह,मद लोभ आदि सामाजिक कुरीतियों का त्याग करें। महाराज ने कहा कि रुक्मणी विवाह की कथा को श्रद्धा से सुनने पर अच्छे घर व वर व वर की प्राप्ति होती है।कथा में उद्धव चरित्र, कृष्ण की महारास लीला व मथुरा गमन का वृत्तांत सुनाया।इस दौरान रुक्मिणी विवाह की झांकी सजाई गई।महिलाओं ने बढ़ चढ़ कर कन्यादान किया।समस्त ग्रामीण मौजूद थे।

Share This