विधानसभा आम चुनाव-2018 -प्रदेश के सभी मतदान केंद्रों को ‘वोटर फ्रेंडली‘ बनाया जाएगा -अश्विनी भगत

खबर - विकास कनवा 
जयपुर। मुख्य निर्वाचन अधिकारी  अश्विनी भगत ने कहा कि भारत निर्वाचन आयोग और निर्वाचन विभाग के लिए मतदाता सर्वोच्च प्राथमिकता पर हैं। ऎसे में मतदान केंद्रों पर आधारभूत सुविधाएं उपलब्ध कराकर उन्हें ‘वोटर फ्रेंडली‘ बनाया जा रहा है। खासकर दिव्यांगजनों के लिए विभाग सभी मतदान केंद्रों पर अनिवार्य रूप से रैंप की व्यवस्था के साथ व्हील चेयर और वॉलेंटियर लगाने के साथ चुनाव के दिन परिवहन की सुविधा उपलब्ध कराने की भी कोशिश कर रहा है।  भगत ने बताया कि मतदान केंद्रों पर पेयजल व्यवस्था, बिजली की आपूर्ति, महिला व पुरुषों के लिए अलग-अलग टॉयलेट की व्यवस्था, दिव्यांगजनों के लिए रैंप, पर्याप्त रोड कनेक्टिविटी, मतदान केंद्र पर बारिश, पर्याप्त मात्रा में फर्नीचर, धूप से बचने के लिए शेड या शेल्टर का निर्माण जैसी कई सुविधाएं मूलभूत सुविधाओं में शामिल हैं। प्रदेश के अधिकतर मतदान केंद्र इन सुविधाओं से युक्त हैं। मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि प्रदेश के 51 हजार मतदान केंद्रों में से 50 हजार 593 पर पेयजल की व्यवस्था, 46 हजार 825 केंद्रों पर बिजली, 51 हजार 105 केंद्रों पर महिला और पुरुषों के लिए अलग-अलग टॉयलेट, 50 हजार 266 केद्रों पर रैम्प, 47 हजार 384 केंद्रों पर पर्याप्त फर्नीचर, 49 हजार 19 केंद्रों पर शेड-शैल्टर की व्यवस्था कर दी गई है। इसके अलावा 51 हजार 438 मतदान केंद्र सीधे रोड से भी जुड़े हुए हैं। उन्होंने बताया कि जिन मतदान केंद्रों पर किसी भी तरह की कोई कमी रहती है तो उन्हें समय रहते दुरुस्त करवा लिया जाएगा।   भगत ने कहा कि सभी  मतदान केंद्रों पर आधारभूत और मूलभूत सुविधाएं मुहैया करवाने के लिए विभाग संकल्पबद्ध है। उन्होंने कहा पिछले दिनों मुख्य सचिव की अध्यक्षता में सभी प्रमुख विभाग के आला अधिकारियों के साथ बैठक कर विभागों द्वारा मतदान केंद्रों पर मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए बैठक की थी। विभागों द्वारा जल्द से जल्द सभी कमियों को पूर्ण करने का भी आश्वासन मिला था। उन्होंने आश्वस्त करते हुए कहा कि अव्वल तो सभी मतदान केंद्र आम सुविधाओं से सुसज्जित हैं, कुछेक में कोई कमी भी हैं तो उन्हें भी मतदान से पूर्व सही करवा लिया जाएगा। 

Share This