पोदार ट्रस्ट द्वारा संचालित संस्थाओं ने मनाया दान उत्सव सप्ताह!

नवलगढ़:- दी आनन्दीलाल पोदार ट्रस्ट द्वारा सेवा सप्ताह के रूप में दान उत्सव का शुभारम्भ गांधी जयंती के अवसर पर किया गया। सम्पूर्ण भारत में यह उत्सव सन् 2009 से प्रति वर्ष 2 अक्टूबर से 8 अक्टूबर तक मनाता आ रहा है। इस उत्सव में सभी छोटे-बड़े बुजुर्ग, अमीर-गरीब, सभी कम्पनियाँ, स्कूल, काॅलेज एवं विभिन्न संगठनों द्वारा यह सप्ताह मनाया जाता है। इस उत्सव में लोग जात-पात सेे ऊपर उठकर सम्मिलित होते हैं। इसी क्रम में दी आनन्दीलाल पोदार ट्रस्ट की सभी संस्थाओं तथा अभिभावकों ने इस दान-उत्सव सप्ताह को मनाने का संकल्प लिया। इस पूरे सप्ताह में प्रबन्धकों, अभिभावकों, स्कूली विद्यार्थियों एवं स्टाॅफ ने दिल खोलकर दान-उत्सव मंे खाद्यान्न वस्तुएँ, नाश्ते का सामान, वस्त्र, स्टेशनरी इत्यादी दिए। इन संग्रहित वस्तुओं को माँ सेवा संस्थान शाखा मानसिक पुनर्वास गृह आदर्श नगर, बगड़ (झुन्झुनू द्वारा संचालित संस्था में वितरित किया गया) तथा पुनर्वास गृह में जीवन-यापन कर रहे बच्चों, बुजुर्गों के साथ पोदार संस्थाओं के स्टाॅफ ने समय बिताया और उनमें खुशियां  बांटी और इनकी व्यवस्थाओं को देखा। माँ सेवा संस्थान शाखा मानसिक विमदित पुनर्वास गृह आदर्श नगर, बगड के सुपरवाइजर उम्मेद सिंह चौधरी  ने पोदार ट्रस्ट के प्रबन्धकों को इस पुनीत कार्य के लिए आभार व्यक्त किया  इसके बाद सड़क किनारे तम्बुओं एवं झुग्गी झोपडियों में निवास कर रहे गरीब मजदूर, अनाथों को भी सामग्री, वस्त्रादि वितरित किए गए। सभी स्कूली विद्यार्थियों ने एक जगह बैठकर अपना भोजन मिल बैठकर किया और आपसे में खुशियां  बाटी। पोदार शिक्षण  संस्थाओं ने अपने यहां कार्यरत चतुर्थ श्रेर्णी कर्मचारियों को अपने घर से लाये उपहार को देकर इनमें खुशियों  का संचार किया। पोदार ट्रस्ट के चेयरमैन कान्ति कुमार आर पोदार द्वारा महात्मा गांधी द्वारा सन् 1922 से 1930 तक प्रथम संस्थापक ट्रस्टी अध्यक्ष रहते हुए देश प्रेम की भावना, आपसी भाईचारा, समाज सेवा, असहाय एवं निर्बलों को सहारा देने जैसे कार्यक्रमों को बढ़ावा देने हेतु वर्तमान समय में भी ऐसे कार्यक्रमों को आवश्यक बताया। इन्हीं विचारों से ओत-प्रोत होकर पोदार ट्रस्ट के चेयरमैन कान्तिकुमार आर पोदार के विचारों को आगे बढाते हुए जरूरत मंद लोगों को भोजन सामग्री, शिक्षण सामग्री, वस्त्रादि का वितरण किया गया। पोदार ट्रस्ट के चेयरमैन का मानना है कि ऐसे उत्सवों के माध्यम से विद्यार्थियों में सेवा भावना जाग्रत होती है और विद्यार्थियों को अच्छा नागरिक बनाने की प्रेरणा मिलती है। 
पोदार ट्रस्ट की ट्रस्टी सुश्री वेदिाक पोदार के अनुसार जरूरत मंद लोगों को हमारे पास अनावश्यक पड़े कपड़े, पुस्तकों को स्वेच्छा से दान किया जाता है तो सही रूप में राष्ट्र सेवा की जा सकेगी तथा इस प्रकार के आयोजनों से गरीब, अनाथ, विमंदित, दिव्यांगों के चेहरों पर मुस्कान बिखरने से हमें बड़े खुशी मिलती है।


Share This