मित्रता छल-कपट व लोभ रहित होनी चाहिए-बृजभूषण महाराज

खबर - मोहम्मद आरिफ चंदेल 

इस्लामपुर. हरिराम परसरामका निवास पर चल रही भागवत कथा में शुक्रवार को वृन्दावन से आए कथा वाचक बृजभूषण महाराज ने कृष्ण-सुदामा के मिलन का प्रसंग विस्तार से सुनाया। महाराज ने कहा कि मित्रता हो तो कृष्ण-सुदामा जैसी होनी चाहिए। मित्रता छल-कपट व लोभ रहित होनी चाहिए। कृष्ण-सुदामा की मित्रता आज भी विश्व में इंसानियत का संदेश दे रही है। कथा के अंत में कृष्ण-सुदामा की मनमोहक झांकी सजाई गई और प्रसाद वितरित किया गया। इस अवसर पर मोहन परसरामका, पवन सुद्राणिया, चंद्रप्रकाश शर्मा, सुमन्त, सज्जन जांगिड़ सहित काफी सं या में श्रद्धालु मौजूद थे।

Share This