नवीनतम



10 नवम्बर तक शहर की सभी सड़के सुधारने के निर्देश

10 नवम्बर तक शहर की सभी सड़के सुधारने के निर्देश


खबर - पंकज पोरवाल 

जिला कलक्टर निकले शहर के रात्रिभ्रमण पर

भीलवाड़ा। जिला कलक्टर शिवप्रसाद एम नकाते गुरुवार को एक बार फिर शहर के रात्रिभ्रमण पर निकले। मोटरसाइकल पर सवार होकर निकले कलक्टर ने विभिन्न कॉलोनियों का दौरा किया और मौके पर ही अधिकारियों को जरूरी निर्देश देते नए कार्यों को समयबद्ध तरीके से पूरा करते हुए 10 नवम्बर तक शहर की सभी सड़कें दुरुस्त करने के निर्देश दिए। 

सांगानेरी गेट, पथिक नगर, आरसी व्यास कॉलोनी, आरके व्यास कॉलोनी* सहित शहर के विभिन्न क्षेत्रों का भ्रमण करते हुए जिला कलक्टर ने सीवरेज, गैस पाइपलाइन आदि कार्यों का अवलोकन किया। जहां पर पूर्व में भ्रमण के दौरान दिए गए निर्देशों की पालना नहीं दिखी वहां पर अधिकारियों और संवेदक के प्रतिनिधियों को त्वरित कार्यवाही करने को कहा। जिला कलक्टर ने अधिकारियों से कहा कि इस बात का पूरा ध्यान रखा जाए कि कार्य के दौरान आमजन को कम से कम असुविधा हो। कहीं कहीं पर उन्होंने शहरवासियों से चर्चा करते हुए उनके विचार और समस्याओं की जानकारी ली और अधिकारियों को उसी अनुरूप कार्य करने को कहा। उन्होंने कहा कि सीवरेज लाइन डालने के बाद रोड को रिपेयर करते हुए अगले स्थान पर कार्य प्रारम्भ किया जाए। उन्होंने कहा कि त्योहारों से पहले हर हाल में सड़कें दुरुस्त हो जानी चाहिए। जिला कलक्टर ने कॉलोनी वासियों से संवाद करते हुए सजग रहने की अपील की। बिना मास्क नज़र आये लोगों को मास्क पहनने की हिदायत भी दी। सांसद सुभाष बहेड़िया ने कलक्टर से भेंट कर अपने विचार रखे । रोड कटिंग के बाद ठीक करवाया जाए। जिला कलक्टर ने प्राप्त शिकायतों पर शिकायतकर्ताओं से बात की और समाधान का आश्वासन दिया। आर के कॉलोनी निवासी शिव रतन सोमानी ने चर्चा के दौरान बताया कि नल कनेक्शन के लिए रोड कटिंग की स्वीकृति के बाद उसके तुरंत रिपेयर की व्यवस्था की जाय। कलक्टर ने यूआईटी और परिषद के अधिकारियों को मौके पर ही व्यवस्था सुधारने के निर्देश दिए।

 कमलेश तेतरवाल की कलम से -बचपन की यादें फिर ताजा

कमलेश तेतरवाल की कलम से -बचपन की यादें फिर ताजा


आज अचानक बचपन की यादें दिमाग में ताजा हुई।जिंदगी भी एक मेला है। 

ग्रामीण क्षेत्र में लोक देवता गोगा जी, रामदेव जी, राय माता जी के मेले भरते हैं। हम भी बचपन में मेले में बहुत शौक से जाया करते थे।मेलों में छोटी-छोटी मीठी चीजें,मूंगफली, आइसक्रीम,केले खाना,लाल शर्बत पीना,गुब्बारे,बांसुरी खरीदना और फिर पान खाकर कुश्ती अखाड़े की और बढ़ना।

इन मेलों में मुख्य आकर्षण होता था कुश्ती दंगल। 

अखाड़ा शुरू होते ही दौड़ कर उधर जाते थे और बड़े लोगों के पैरों में फंसते हुए कैसे भी आगे पहुंच कर मोर्चा लेते थे जहां से आराम से देख सकें या कोई जानकर ऊंट वाले से लिफ्ट लेकर देखते थे।

शुरू में कुछ कुश्तियां बराबरी के पहलवानों के बीच होती थी और उसके बाद जिस का सबको इंतजार होता था एक बड़ा पहलवान आकर अखाड़े में चक्कर लगाते हुए एक नंबर की छुट्टी की घोषणा करता था। इसका का अर्थ यह था कि वहां खुली चुनौती देता कि उससे कोई भी पहलवान कुश्ती लड़ सकता है। यह मेले की सबसे शानदार और आकर्षक कुश्ती होती थी। लेकिन कई बार इन बड़े पहलवानों के सामने कोई नहीं आता था। ऐसा पहलवान बिना विरोध के अखाड़े से विजेता घोषित किया जाए इस बात को रोकने के लिए कोई भी बेमेल नकली पहलवान अचानक भीड़ में से निकलता और हाथ मिलाकर उस पहलवान की चुनौती को स्वीकार करता ।

दोनों पहलवान कुश्ती के लिए तैयार होते, अखाड़े के एक दो चक्कर लगाते फिर जैसा सबको पता ही होता था नकली पहलवान हाथ मिला के हार स्वीकार कर लेता और हाथ जोड़ कर अखाड़ा छोड़ देता था और असली पहलवान को विजेता घोषित कर दिया जाता।

पिछले पंद्रह दिनों से कोरोना पहलवान ने हमारे यहां भी ऐसा ही किया,हाथ मिलाया,चक्कर लगाए और आज हाथ जोड़ कर हार स्वीकार कर ली बेचारे ने और अखाड़ा छोड़ दिया।


 इस अवधि में पीएमओ कालेर जी, डॉ कपिल जी सिहाग,बीसीएमओ झुन्झुनू डॉ मनोज जी डूडी,बीसीएमओ मलसीसर डॉ अभिषेक,डॉ नेहा चौधरी, डॉ संजीव कुलहरि, बीडीके के भूपेंद्र जी,विनोद जी डांगी का सकारात्मक सम्बलन व शुभचिंतकों की शुभकामनाएं बेस्ट मेडीसिन व भविष्य की वैक्सीन साबित हुई।

पर सुनो,,,

अगर आप स्वस्थ व मस्त हो और मानसिक स्तर पर मजबूत तो इससे कमजोर बीमारी नही है।

अगर आप व्यायाम,वाकिंग, शुद्ध खानपान में लापरवाही करते हो तो इससे पाजी रोग नही है।


💐शुद्ध खाएं,शुद्ध पियें।

स्वस्थ रहे मस्त जियें।💐

 आयकर विभाग ने दिल्‍ली-एनसीआर, हरियाणा, पंजाब, उत्तराखंड और गोवा में छापे मारे

आयकर विभाग ने दिल्‍ली-एनसीआर, हरियाणा, पंजाब, उत्तराखंड और गोवा में छापे मारे


दिल्‍ली-
आयकर विभाग ने फर्जी बिल बनाकर बड़े पैमाने पर पैसों की हेरा-फेरी करने वाले लोगों के एक बड़े नेटवर्क का भांडाफोड़ करते हुए 26 अक्‍टूबर, 2020 को छापे मारी और जब्‍ती की कार्रवाई की। इस सिलसिले में दिल्‍ली-एनसीआर, हरियाणा, पंजाब, उत्तराखंड और गोवा में 42 स्‍थानों पर छापे मारे गए और तलाशी की गई। इस दौरान फर्जी बिल के आधार पर पैसों की हेरा-फेरी करने वाले एंट्री ऑपरेटरों,  बिचौलियों, लाभार्थियों और कंपनियों के खिलाफ कई सबूत जब्‍त किए गए। अब तक, इस मामले में नकली बिलों के आधार पर 500 करोड़ रुपये से ज्‍यादा की हेरा-फेरी के सबूत मिले हैं जिन्‍हें जब्‍त कर लिया गया है। तलाशी के दौरान कई ऐसे सबूत हाथ लगे हैं जिनसे पता चला है कि एंट्री ऑपरेटरों ने फर्जी बिल के आधार पर बेहिसाब धन की निकासी और असुरक्षित ऋण देने के लिए कई फर्जी कंपनियों के नाम का इस्‍तेमाल किया। इसमें ऐसे ऑपरेटरों, उनके नकली भागीदारों / कर्मचारियों के साथ-साथ लाभार्थियों के विवरण भी स्पष्ट रूप से दर्ज हैं। जिन लोगों के खिलाफ तलाशी की गई है उनके परिजनों और उनके करीबी कर्मचारियों के नाम पर कई बैंक खाते और लॉकर तथा फर्जी कंपनियां खोले जाने की जानकारी भी मिली है। ये सारे काम बैंक अधिकारियों की मिलीभगत से किए गए हैं। इस फर्जी धंधे से लाभ उठाने वाले लोगों ने कई बड़े शहरों में रियल एस्‍टेट कारोबार में निवेश किया है और करोड़ों रुपये बैंक में फिक्‍स्ड डिपॉजिट किए हैं।  तलाशी के दौरान 2.37 करोड़ रुपये नकद और 2.89 करोड़ रुपये मूल्‍य के जवाहरात बरामद हुए हैं। इसके साथ ही ऐसे 17 बैंक लॉकरों का भी पता चला है जिनका अभी तक इस्‍तेमाल नहीं किया गया है। आयकर विभाग इस मामले में आगे और जांच कर रहा है।