मूलभूत सुविधाओं को आज भी तरस रहा आसींद कस्बा

मुख्यमंत्री की गौरव यात्रा पर विशेष
बीते 5 वर्षो मे जनप्रतिनिधियों 
ने नहीं दिया समस्याओं की ओर ध्यान 
 भीलवाड़ा (पंकज पोरवाल) जिले का आसींद कस्बा पिछले कई सालों से मूलभूत सुविधाओं से महरूम है। इस दौर में प्रदेश में कांग्रेस व भाजपा की सरकारें रहीं। किसी ने समस्याओं की ओर ध्यान नहीं दिया। कस्बे की सबसे बड़ी समस्या राजकीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में 16 चिकित्सकों के पद होने के बाद भी मात्र एक चिकित्सक पदस्थापित है। उपचार के लिए स्थानीय निवासियों एवं बाहर से आने वाले रोगियों को बड़ी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। प्रतिदिन रोगियों की संख्या 500 के करीब होने के बाद भी कोई ध्यान नहीं दिया गया। इस चिकित्सालय में रोजाना 10 से 12 प्रसव होते हैं लेकिन महिला चिकित्सक का पद खाली है। मजबूरी में प्रसव भी मेलनर्स के द्वारा कराया जाता है। दूसरी समस्या कस्बे में रोडवेज बसों का संचालन नहीं होने की है। हर बार चुनाव में मुद्दा रहता है पर बाद में यह गौण हो जाता है। कस्बे में लंबी दूरी की रोडवेज बसों का संचालन आज तक नहीं हुआ है, जिसके चलते आसींद कस्बे वासी अपने आप को ठगा सा महसूस कर रहे हैं। कस्बे की अन्य समस्या पालिका द्वारा नई बस्तियों का नियमन करने के बाद वहां पर भौतिक सुख सुविधाओं के नाम पर आज तक कुछ नहीं किया गया है। कहीं पर भी सामुदायिक सुविधाओं पार्क के नाम पर जमीन हीं नहीं छोड़ी गयी। यहां से गुजरने वाली खारी नदी को दिन प्रतिदिन प्रदूषित किया जा रहा है। पूर्व में राजस्व विभाग ने अपनी सख्ती दिखाते हुए 142 पक्के निर्माणों को जेसीबी द्वारा रातों-रात इन को ध्वस्त कर दिया गया था और इस नदी को अतिक्रमण मुक्त बनाया था। आज यह नदी वही अपने पुराने अंदाज में लौट आई है और नदी के चारों और अतिक्रमण का मायाजाल फैल चुका है। आसींद कस्बे की नगर पालिका की कार्यप्रणाली पर नजर डालें तो मुख्यमंत्री शहरी जन कल्याण योजनाओं के दौरान जो शिविर लगाए गए उस शिविर में एक पुश्तैनी पट्टा जारी नहीं हुआ है। आसींद नगरपालिका में पालिका अध्यक्ष एवं जनप्रतिनिधियों के बीच मतभेद के कारण आम जनता को मृत्यु जन्म प्रमाण पत्र, विवाह पंजीकरण प्रमाण पत्र के लिए भी चक्कर लगाने पड़ते हैं। पालिका की नजूल संपत्तिया कहां कहां पर है इसका भी किसी को अता पता नहीं है। पिछले 3 सालों में नगर पालिका अधिशासी अधिकारी और जनप्रतिनिधियों की खींचतान के चलते लगभग 12 ईओ बदले जा चुके हैं। पिछले 3 सालों से कस्बे की मुख्य सड़कें पूरी तरह से उखड़ चुकी हैं। पंचायत समिति से लेकर बस स्टैंड तक लगभग सड़कों के बीचोंबीच एक एक फीट के गड्ढे पड़ चुके हैं। पालिका प्रशासन ने अभी तक इन सड़कों की मरम्मत करने कराने की जहमत नहीं उठाई, वहीं पिछले पांच सात दिनों से कस्बे में चंबल प्रोजेक्ट की पाइप लाइनें बिछाई जा रही हैं, जिसके चलते पूरे कस्बे की सड़के उखड़ चुकी है। 29 सितम्बर को मुख्यमंत्री गौरव यात्रा के दौरान यहां आ रही है। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे स्वयं यहां पांच सालों में आ चुकी हैं, समस्याओं को उनके सम्मुख रखने के बाद भी कोई समाधान नहीं हो पाया है। स्थानीय विधायक रामलाल गुर्जर कहते है कि आसींद की समस्याओं के निस्तारण के लिए उनके द्वारा प्रयास किये गये है, उनका प्रकटीकरण अब होना है। अब देखना है कि आने वाले समय में यह मूल समस्याओं का निदान कब और कैसे होता है यह तो आने वाला वक्त ही बताएगा। 
बाॅक्स
थाना परिसर के पीछे किया हेलीपेड तैयार
राजस्थान की सीएम वसुंधरा राजे की 29 सितंबर की यात्रा को लेकर प्रशासन पूरी तरह से मुस्तैद है। सीएम राजे कल हेलीकाॅप्टर से प्रातः 11 बजे आसींद में आएगी जिसके चलते थाना परिसर के पीछे विशाल हेलीपैड तैयार किया गया है। दूसरी ओर हेलीपैड से सीएम राजे सीधे सवाई भोज मंदिर पहुंचेगी जहां पर भगवान देवनारायण के मंदिर के दर्शन करने के बाद में राजकीय सीनियर उच्च माध्यमिक विद्यालय के खेल मैदान में आम सभा संबोधित करेगी इस आम सभा के लिए लगभग 30 हजार लोगो के बैठने की व्यवस्था की गई है। भाजपा जिलाध्यक्ष दामोदर अग्रवाल ने बताया कि मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की राजस्थान गौरव यात्रा भीलवाड़ा जिले से आसींद मे प्रातः 11 बजे सवाई भोज मंदिर के बाहर मैदान मे, करेड़ा मे दोपहर 1 बजे दहीमथा चैराया पर तथा गंगापुर मे दोपहर 2.30 बजे आचार्य तुलसी महाविद्यालय प्रांगण मे आम सभा होगी। भाजपा जिला प्रवक्ता कैलाश सोनी ने बताया कि यात्रा को लेकर भाजपा जिला संगठन ने तैयारियां जोर शोर से प्रारंभ कर दी है। यात्रा को लेकर आज भाजपा जिला संगठन प्रभारी पुखराज हाड़िया, भाजपा जिलाध्यक्ष दामोदर अग्रवाल, जिला प्रमुख शक्ति सिंह हाड़ा, कांति लाल जैन, मुख्य सचेतक कालूलाल गुर्जर, विधायक राम लाल गुर्जर, डाॅ. बालूराम जाट ने सभा स्थल का जायजा। राजस्थान गौरव यात्रा को लेकर भाजपा कार्यकर्ता मे जबरदस्त उत्साह है।




Share This