घासीराम वर्मा साहित्य पुरस्कार कवि ऋतुराज को

खबर - अजय कुमार 
प्रयास संस्थान की ओर से दिया जाएगा 51 हजार रुपये का पुरस्कार
ऋतुराज की काव्य कृति ‘फेरे’ होगी पुरस्कृत
चूरू। साहित्य एवं संस्कृति के क्षेत्र में काम कर रहे प्रयास संस्थान की ओर से वर्ष 2018 का घासीराम वर्मा साहित्य पुरस्कार भरतपुर में जन्मे तथा जयपुर रह रहे हिंदी कविता के सशक्त हस्ताक्षर ऋतुराज को दिए जाने की घोषणा की गई है। संस्थान के अध्यक्ष दुलाराम सहारण ने बताया कि राजस्थान के हिंदी लेखन के लिए दिए जाने वाले इस पुरस्कार में लेखक को 51 हजार रुपए, शाॅल, श्रीफल एवं सम्मान पत्र प्रदान किया जाता है। ऋतुराज को यह पुरस्कार उनकी कविता पुस्तक ‘फेरे’ के लिए दिया जा रहा है। संस्थान सचिव कमल शर्मा ने बताया कि वर्ष 2008 से शुरू किए गए इस वार्षिक पुरस्कार के तहत अब तक डाॅ. सत्यनारायण, मनीषा कुलश्रेष्ठ, हेमंत शेष, रत्नकुमार सांभरिया, कमर मेवाड़ी, पल्लव, भगवान अटलानी, प्रो. माधव हाड़ा, नंदकिशोर आचार्य, डाॅ. पद्मजा शर्मा जैसे नामचीन लेखकों को पुरस्कृत किया जा चुका है। इस वर्ष का आयोजन सितंबर के अंतिम सप्ताह तक प्रस्तावित है, जिसमें इस पुरस्कार के साथ ही रूकमणी वर्मा युवा साहित्यकार पुरस्कार भी प्रदान किया जाएगा। 

हिंदी कविता में प्रतिष्ठित नाम है ऋतुराज:
राजस्थान के भरतपुर में 10 फरवरी 1940 को जन्मे ऋतुराज शर्मा राजस्थान के श्रेष्ठ एवं सर्वाधिक प्रतिष्ठित हिंदी कवियों में शुमार होते हैं। आधुनिक हिंदी कविता के सशक्त हस्ताक्षर ऋतुराज की दस से अधिक कविता पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं। वे करीब 35 साल तक अंग्रेजी साहित्य के प्राध्यापक रहे हैं। उन्हें प्रतिष्ठित पहल सम्मान, मीरा पुरस्कार, सुधाकर पुरस्कार, कन्हैयालाल सेठिया पुरस्कार एवं बिहारी पुरस्कार सहित अनेक महत्वपूर्ण पुरस्कार प्राप्त हो चुके हैं।

Share This