विधायक गुर्जर के सत्याग्रह के समर्थन में युवकों व युवतियों ने दिखाई ‘वीरुगिरी’

खबर - पंकज पोरवाल 
3 टावर पर चढ़ेः 2 युवतियां व 12 छात्र हैं शामिल,  पुलिस-प्रशासनिक अधिकारी मौके पर, युवतियां उतरी
भीलवाड़ा। जिले के जहाजपुर विधायक धीरज गुर्जर के सत्याग्रह के आठवें दिन आंदोलन आज और तेज हो गया। गुर्जर के समर्थन में आज 12 युवकों व दो युवतियों ने ‘वीरुगिरी’ दिखाई और टावर पर चढ़ गए। तीन अलग-अलग टावरों पर दो युवतियां सहित 14 छात्र नेता चढ़ गये। युवतियां कुछ देर बाद टावर से उतर गई, जिन्हें सुभाषनगर पुलिस थाने ले गई। कृषि उपज मंडी के नजदीक स्थित टावर पर चढ़े युवक अपने साथ पेट्रोल की बोतल भी ले गए हैं और वे आत्मदाह की चेतावनी दे रहे हैं। उधर, एनएसयूआई के जिलाध्यक्ष रितेश गुर्जर ने कहा है कि टावर पर चढ़े छात्र नेता अपने साथ पेट्रोल की बोतल भी ले गए हैं और वह कुछ भी कर सकते हैं। उन्हें उतारने का प्रयास नहीं किया जाए। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक दिलीप सैनी, एसडीएम, डीएसपी सिटी भंवर रणधीर सिंह, भीमगंज थाना प्रभारी भूपेश शर्मा भी मौके पर पहुंचे और छात्रों को समझाने के प्रयास शुरू किये। वहीं दूसरी और छात्र नेताओं के कृषि उपज मंडी के पास टावर पर चढ़ने के बाद भी अन्य मोबाइल टावरों की सुरक्षा नहीं बढ़ाई गई। ऐसे में दो और टावर पर युवक-युवतियां चढने में सफल रहे। कृषि उपज मंडी के निकट टावर पर आज विधायक धीरज गुर्जर के समर्थन में 7 एनएसयूआई छात्र नेता मोबाइल टावर पर चढ़ गये। ये छात्रनेता अपने साथ पेट्रोल की बोतल भी ले गए हैं।
 इनमें रामलाल गुर्जर, राजमल अहीर, प्रकाश जाट, देवीलाल गुर्जर, गजेन्द्र सिंह, रामनिवास व यशवंत पारीक शामिल हैं। उन्होंने टावर से ही आत्मदाह की धमकी दी है। ये छात्रनेता, विधायक धीरज गुर्जर के समर्थन में सरकार से वार्ता और मांगे मानने की मांग कर रहे हैं। मौके पर लोगों की भारी भीड़ जमा हो गई। टावर पर छात्रों के चढ़ने की जानकारी मिलते ही पुलिस व प्रशासन के आला अधिकारी मौके पर पहुंचे। साथ ही पुलिस ने वहां एकत्रित भीड़ को भी हटाया। पुलिस व प्रशासन के आला अधिकारी मौके पर ही बैठ गए और छात्रों से बातचीत के प्रयास किए। उधर यूआईटी के पीछे स्थित निजी कम्पनी के टावर पर आज दो युवतियां चढ़ गई। टावर पर चढ़ने वाली युवतियों में तनीषा जैन और रिया गुर्जर शामिल है। करीब एक घंटे युवतियां टावर पर रही। इसके बाद सुभाषनगर थाने से पुलिस जाब्ता मौके पर पहुंचा और समझाइश कर युवतियों को नीचे उतार लिया गया। दोनों युवतियों को पुलिस थाने ले गई। वहीं भीलवाड़ा डेयरी के सामने स्थित निजी मोबाइल कंपनी के टावर पर पांच युवक चढ़ गये। युवक एनएसयूआई से जुड़े हुये बताये जा रहे हैं। युवकों में देवराज गुर्जर, सुरेश गुर्जर, गणेश गहलोत, शंकर गुर्जर व छोटू चक्की शामिल हैं। ये युवक भी विधायक गुर्जर का समर्थन में हैं। युवकों के टावर पर चढ़ने की सूचना पर सदर थाना पुलिस मौके पर पहुंच गई। वहीं बड़ी संख्या में लोग जमा हो गये। 
धीरज की हालत बिगड़ी
  सत्याग्रह-अनशन के आठवें दिन जहाजपुर विधायक धीरज गुर्जर की तबीयत बिगड़ गई थी। दोपहर में चक्कर आने की शिकायत पर चिकित्सकों ने स्वास्थ्य जांच की और अस्पताल में भर्ती कराने की सलाह दी लेकिन गुर्जर ने इनकार कर दिया। अनशन से पहले विधायक गुर्जर का वजन 128 किलोग्राम था, जो घटकर 118 किलो रह गया है। धीरज के सत्याग्रह को समर्थन देने के लिए अब कांग्रेस भी पूरी तरह एकजुट दिखाई दे रही है। महिला कांग्रेस तो पहले दिन से धीरज के साथ थी लेकिन अब जिलाध्यक्ष रामपाल शर्मा भी आज अनशन स्थल पर अपने दल बल के साथ पहुंचे और धीरज की तबियत के बारे में जानकारी ली और उनसे चर्चा की। विधायक जहाजपुर व कोटड़ी क्षेत्र की 15 सूत्रीय मांगों को लेकर सत्याग्रह पर हैं। '
अन्न का त्याग कर विधायक केवल पानी पी रहे हैं। आठ दिन बाद भी सरकार या प्रशासन की ओर से इस सम्बन्ध में कोई पहल नहीं की गई है। इसे लेकर विधायक गुर्जर ने नाराजगी जताई। उन्होंने कहा कि अधिकारी सरकार के इशारे पर काम कर रहे हैं। वहीं, विधायक धीरज गुर्जर समर्थकों ने दो दिन पूर्व सरकार को जगाने के लिए भैंस के आगे बीन बजाकर अनोखा प्रदर्शन किया। जिसे देखने के लिए लोगों की भीड़ जमा हो गई। जहाजपुर- कोटड़ी क्षेत्र की समस्याओं के समाधान को लेकर अनशन पर बैठे विधायक धीरज गुर्जर को समर्थन देने कांग्रेस के कई वरिष्ठ पदाधिकारी पहुंचे। केवल पानी पीकर सत्याग्रह कर रहे विधायक को सिरदर्द के साथ बुखार आ गया। डाॅक्टर स्वास्थ्य की जांच कराने आए, लेकिन विधायक ने इनकार कर दिया। गौरतलब है कि पुलिस की ओर से विधायक सहित नौ अन्य के खिलाफ रास्ता रोकने व प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री के प्रति अशोभनीय भाषा के इस्तेमाल का मुकदमा दर्ज करने के बाद अधिक संख्या में समर्थक पहुंचे।
छात्रों व एएसपी में हुई बहस
 जिस टावर पर छात्र चढ़े थे, उसके आसपास तथा कांग्रेस कार्यालय के पीछे वाली गली में एनएसयूआई के जिलाध्यक्ष रितेश गुर्जर के नेतृत्व में कई छात्र वहां एकत्र हो गए। इस दौरान उनकी एडिशनल एसपी दिलीप सैनी तथा उनमें बहस भी हो गई। इस दौरान पूर्व प्रदेश महासचिव किशन जाट, भंवर गुर्जर आदि भी थे। 
न पुलिस-प्रशासन चेता, न टावर कंपनियां
 विधायक गुर्जर की भूख हड़ताल के समर्थन में बुधवार को जयपुर में मोबाइल टावर पर चार छात्रों के चढने के बावजूद यहां पुलिस-प्रशासन व मोबाइल टावर कंपनियां सावचेत नहीं हुईं। टावरों की सुरक्षा तक नहीं की गई। हालात ये हैं कि जिस टावर पर गुरुवार को सात छात्र चढ़े, वहां चैकीदार भी तैनात नहीं था। 
दो जाल बिछाए, आपदा प्रबंधन टीम को बुलाया
 पुलिस-प्रशासन ने किसी भी आपदा की स्थिति से निबटने के लिए तथा रेस यू कर छात्रों को सुरक्षित नीचे उतारने के प्रबंध किए हैं। टावर के नीचे दो जाल बिछाए गए हैं, ताकि यदि ऊपर से छात्र कूद जाएं तो उन्हें सुरक्षित बचाया जा सके। एसडीएम ने आपदा प्रबंधन की टीम को भी बुलाने के निर्देश दिए। 
दे रहे आत्मदाह की चेतावनी
 टावर पर चढ़े छात्र नेताओं ने विधायक गुर्जर से वार्ता कर मांगें नहीं माने जाने पर आत्मदाह की चेतावनी दी। प्रशासन उनसे बार-बार नीचे उतरने की अपील करता रहा और वे अपने साथ ऊपर लेकर गए पेट्रोल की बोतल दिखाते हुए आत्मदाह की चेतावनी देते रहे।


Share This