राम जब तू ही अगवा बनता है क्षत्रिय कुल की गाड़ी में, मसल याद वो आती है तिनका है चोर की दाढ़ी में

खबर - जयंत खांखरा 
खेतड़ी -कस्बे के अजीत अस्पताल के पास हो रही रामलीला में शनिवार रात्रि को रामलीला के सचित्र वर्णन में धनुष यज्ञ की लीला का मंचन किया गया। सीन के मुताबिक जब रामचंद्र ने धनुष तोड़ा तो यह बात दूर तपस्या में लीन परशुराम को पता चल जाती है तो वे जनकपुरी आते हैं और धनुष को हाथ में लेकर पूरी सभा को डांट फटकार लगाते हैं राजा जनक को धनुष टूट जाने पर जमकर डांटते हैं इस पर रामचंद्र अपनी उदारता दिखाते हुए परशुराम को बताते हैं कि यह धनुष उन्होंने तोड़ा है रामचंद्र लक्ष्मण और परशुराम के बीच जमकर संवाद होता है। संवाद में परशुराम ने रामचंद्र को कहा कि राम जब तू ही अगुआ बनता है क्षत्रिय कुल की गाड़ी में मसल याद वो आती है तिनका है चोर की दाढ़ी में अंत में श्री राम की छाती में परशुराम के दादा भ्रुगू का निशान दिखाई पड़ता है तो परशुराम श्री राम के समक्ष नतमस्तक हो जाते। लक्ष्मण का किरदार निभा रहे एडवोकेट पियूष सुरोलिया ने लक्ष्मण परशुराम के संवाद में जमकर तालियां बटोरी। वही परशुराम का किरदार निभा रहे ईश्वर सैनी ने पूरी ईमानदारी के साथ अपने किरदार को निभाया। राम का किरदार संजय दीक्षित तथा रावण का किरदार जितेंद्र शर्मा अदा कर रहे हैं ।रविवार को रामचंद्र जी की बारात और सीता जी का कन्यादान की लीला का मंचन किया जाएगा।

Share This