शास्त्रीनगर में कपड़ा व्यवसायी के मकान में डकैती, एक नौकर गायब

खबर - पंकज पोरवाल 
दो कर्मचारियों को बंधक बनाकर लाखों का माल लूटा, गृहस्वामी शादी मे गया बीकानेर 
भीलवाड़ा। पुलिस गश्त व्यवस्था की पोल पिछले कुछ समय से शहर समेत जिले भर में खुलती रही है लेकिन नए पुलिस अधीक्षक ने कार्यभार संभालने के बाद जिस तरह से गश्त व्यवस्था को मजबूत बनाने की बात कही थी, उससे कुछ सकारात्मक संदेश मिलता दिख रहा था लेकिन यह संदेश सिर्फ संदेश ही रहा और बीती रात को शहर की पाॅश काॅलोनी में दो नौकरों को बंधक बनाकर और उनसे मारपीट कर डकैती के समाचार ने शहरवासियों को हिला कर रख दिया। शहर में डकैती की यह ऐसी घटना थी जिसमें घर का ही एक नेपाली नौकर शामिल बताया जा रहा है। जानकारी के अनुसार शास्त्रीनगर में एक कपड़ा व्यापारी के मकान में बीती रात को पांच लोगों ने डकैती डालकर दो कर्मचारियों को बंधक बनाकर हाथ-पैर बांध दिये और चार कमरों में करीब दो घंटे तक तसल्ली से सार-संभाल की। एक कर्मचारी के चिल्लाने पर डकैतों ने उससे मारपीट भी की। इस वारदात को किसी और ने नहीं, बल्कि मालिक के ही घरेलू नेपाली नौकर ने नेपाली साथियों का गिरोह बनाकर अंजाम दिया। वारदात के बाद नौकर व उसके साथी भाग निकले। पुलिस की माने तो व्यापारी के घर से करीब एक लाख रुपए, कर्मचारी का मोबाइल व तीन हजार रुपए डकैत ले गये हैं। गृहस्वामी के बीकानेर से लौटने के बाद ही लूटे गये माल की वास्तविकता का पता चल पायेगा। इससे कुछ साल पहले कोतवाली के पीछे ऐसे ही नेपाली नौकरों ने डाॅ. प्राणजीवन शाह व उनके परिवार को नशीला खाना खिलाकर बेहोश करने के बाद लूटपाट की थी। पुलिस उपअधीक्षक (शहर) भंवर रणधीर सिंह ने बताया कि ई सेक्टर शास्त्रीनगर निवासी व लालानी सूटिंग के मालिक मोतीलाल लालानी के छोटे भाई हनुमान के बेटे हेमंत की बीकानेर में शादी थी। मोतीलाल लालानी व परिवार के सदस्य 16 जनवरी को वहां चले गये। घर की सुरक्षा का जिम्मा फैक्ट्री में कार्यरत एकांउंटेंट इंद्रचंद बोथरा व यार्न सुपरवाइजर सांवरमल खारोल को सौंप गये थे। इनके अलावा घरेलू नौकर पवन बहादुर भी घर ही था। बीती रात बोथरा व खारोल कमरे में, जबकि नेपाली नौकर रसोईघर में सोया हुआ था। रात करीेब ढाई बजे पीएनटी कॉलोनी से पेड़ की टहनी पर चढ़कर पांच डकैत लालानी के मकान में घुस आये। इससे पहले मकान का दरवाजा नेपाली नौकर ने खोल दिया था। सभी डकैतों ने कमरे में सोये बोथरा व खारोल को बांध दिया और इसके बाद करीब चार कमरों की सभी आलमारियों को तोड़कर सार-संभाल की। करीब ढाई घंटे डकैत मकान में रहकर लूटपाट करते रहे। इससे पहले डकैतों ने बोथरा व खारोल को अलग-अलग मकानों में बांध दिया था। सभी डकैत नेपाली भाषा में बात कर रहे थे। इन्होंने सांवर मल के साथ मारपीट भी की। वारदात को अंजाम देने के बाद नौकर पवन बहादुर अपने साथी डकैतों के साथ अपना सामान समेट कर फरार हो गया। डीएसपी सिंह ने बताया कि प्रारंभिक तौर पर लालानी के घर से एक लाख रुपए, बोथरा के तीन हजार व मोबाइल लूटे जाने की बात सामने आई है। लालानी परिवार के घर लौटने के बाद ही वास्तविकता का पता चल पायेगा। फिलहाल पुलिस की दो टीमें डकैतों की तलाश में भेजी गई है। 

Share This