दी आनन्दीलाल पोदार ट्रस्ट की ट्रस्टी सुश्री वेदिका पोदार विश्व के सबसे प्रतिष्ठित डायना अवार्ड से सम्मानित!

नवलगढ़: दी आनन्दीलाल पोदार ट्रस्ट की ट्रस्टी सुश्री वेदिका पोदार को विश्व के प्रतिष्ठित  पुरस्कार ‘‘डायना अवार्ड‘‘ से सम्मानित किया गया। ‘‘डायना अवार्ड‘‘ एक मात्र चैरिटी संस्था है जो युवाओं को उत्कृष्ट कार्यो और बदलाव लाने के लिए विश्व  स्तर पर इस पुरस्कार से सम्मानित करती है। प्रिसेंस डायना का हमेशा  से   विचार रहा है कि युवाओं में दुनिया बदलने की ताकत और क्षमता है । सुश्री वेदिका पोदार ने वर्ष 2017 से लडकियों की पढाई के लिए ग्रामीण राजस्थान में जागरूकता फैलाने और समाज कल्याण, मानसिक स्वास्थ्य, स्थानीय जन समुदाय के साथ ‘‘चैज फाॅर चैज‘‘- ‘‘बेटी पढाओं -देश  बढाओं‘‘ नाम से मुहिम शुरू करने के लिए इस अवार्ड से सम्मानित किया गया।


 ‘‘चैंज फाॅर चैंज‘‘-(‘‘बेटी पढाओं  देष बढाओं‘‘) मुहिम में वह स्थानीय जन समुदाय को शामिल करके आस -पास के लोगो को खुले पैसे देने के लिए प्रेरित किया, यह पैसा नवलगढ राजस्थान की बालिकाओं की शिक्षा   के अवसर बढाने के लिए इस मुहिम की शुरूआत की। इस मुहिम में लोगो को प्रेरित किया गया कि बालिका शिक्षा  के लिए आप अपनी ओर से खुले पैसे प्रदान कर सकते है जिससे बालिका शिक्षा  को बढावा मिल सकें। इस मुहिम की वजह से कई बालिकाओं को शिक्षित  होने का अवसर मिला। सुश्री वेदिका पोदार द्वारा ग्रामीण राजस्थान नवलगढ में कई और सामाजिक मुहिम चलाई गई। इस मुहिम की तहत से अधिक से अधिक बालिकाओं को षिक्षा के अवसर प्राप्त हुए। 
बालिका शिक्षा  मुहिम के अलावा सुश्री वेदिका पोदार ने ‘‘वृक्ष लगाओं -भविष्य बचाओं‘‘, ‘‘स्वच्छ भारत-स्वस्थ भारत‘‘, ‘‘पढे़ भारत -बढे भारत‘‘, ‘‘स्वस्थ तन-स्वस्थ मन‘‘, ‘‘हमारे जवान - हमारी शान‘‘ और वेलनेस, देश  में बढते जल संकट जैसी मुहिमों की शुरूआत की। दी आनन्दीलाल पोदार ट्रस्ट  की ट्रस्टी सुश्री वेदिका पोदार द्वारा चलाई जा रही सामाजिक गतिविधि ‘‘स्वच्छ भारत - स्वस्थ भारत ‘‘ के तहत भारत के प्रधानमंत्री माननीय श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा इस मुहिम की बहुत - बहुत प्रसन्नता व्यक्त की और इस मुहिम के लिए प्रधानमंत्री द्वारा प्रशंसा पत्र भेजा गया। 
  
सु.श्री. वेदिका पोदार ‘‘डायना अवार्ड ‘‘ से सम्मानित होने पर बहुत उत्साहित है वह हमेशा  लोगो की जिन्दगी में बदलाव और अन्तर लाना चाहते है, चाहे लोग किसी भी जाति या धर्म और आयु के हो। सुश्री वेदिका जी का मानना है कि अधिक से अधिक युवा इन मुहिमों पर कार्य करें तो देष और दुनिया को बदल सकते है। इस सम्मान से युवाओं में और जागरूकता बढेंगी और अधिक से अधिक युवा ऐसे मुहिमों में हिस्सा लेगें। जिससे देश  के युवाओं को समाज सेवा करने की प्रेरणा मिलेगी। 


Share This