सांसद अहलावत की कोशिश से यमुना के पानी का सपना हो रहा है साकार

खबर - पवन शर्मा 
लिडार सर्वे के लिए हैलिकॉप्टर पहुंचा पिलानी, तीन दिन से कर रहा है सर्वे
 15 सितंबर तक डीपीआर जमा हो जाएगी केंद्रीय जल कमिशन में
सूरजगढ़ झुंझुनूं सांसद संतोष अहलावत के प्रयास आखिरकार रंग ला रहे है और केंद्र व राज्य सरकारें मिलकर शेखावाटी के सपनेें को साकार करने में लगी हुई है। यमुना पानी शेखावाटी में आए और यहां के लोगों को इसका फायदा मिले इसके लिए केंद्र व राज्य सरकार दोनों सामूहिक प्रयास कर रही है। इस कार्य के लिए हवाई सर्वे पिछले तीन दिनों से चल रहा है। सांसद पीआरओ अजय लुणायच ने बताया कि सांसद संतोष अहलावत से रविवार को सिंचाई विभाग के अधिकारियों ने मुलाकात कर अब तक की प्रगति रिपोर्ट पेश की। जिसके तहत बताया गया है कि यमुना का पानी शेखावाटी में लाने के लिए 270 किलोमीटर  लंबी स्टील पाइपे डाली जाएगी। पानी को इकट्ठा करने के लिए चूरू जिले के राजगढ़ तहसील के गोठिया बड़ी गांव में सात किलोमीटर लंबा और सात किलोमीटर चौड़ा एक तालाब बनाया जाएगा। जिसका फायदा राजगढ़ के लोगों को भी मिलेगा। यहां के किसानों को सिंचाई के लिए पानी दिया जाएगा। इसके अलावा झुंझुनूं के लोगों को सिंचाई और पीने का पानी दिया जाएगा। वहीं सीकर के लोगों को केवल पीने का पानी दिया जाएगा। सांसद अहलावत ने बताया कि अधिकारियों ने आश्वस्त किया है कि इस 20 हजार करोड़ रुपए की डीपीआर वे 15 सितंबर तक हर हाल में केंद्रीय जल कमिशन में जमा करवा देंगे। ताकि बाद में इस कार्य को धरातल पर लाने के काम शुरू होंगे। सांसद संतोष अहलावत ने एक अन्य जानकारी में बताया कि उन्हें अधिकारियों ने जानकारी दी है कि कमांड और रिजर्व एरिया का सर्वे पूरा हो चुका है। यही नहीं हवनी कुंड बैरास से लेकर करनाल तक का हवाई सर्वे पहले पूरा हो चुका है। साथ सोमवार को करनाल से झुंझुनूं तक का भी हवाई सर्वे पूरा हो जाएगा।

*60 फीसदी पानी आएगा सिंचाई के काम*
सांसद संतोष अहलावत ने बताया कि अभी तक सरकार ने जो तय किया है। उसके मुताबिक राजस्थान को 577 क्यूबेक मिलियन मीटर पानी मिलेगा। इसमें से 60 फीसदी पानी सिंचाई के काम आएगा और 40 फीसदी पानी पीने के काम आएगा। यही नहीं बात शेखावाटी के अपने अपने हिस्से की करें तो 70 फीसदी झुंझुनूं को तथा 30 फीसदी सिंचाई का पानी चूरू के काम आएगा। साथ ही सीकर को केवल पीने का पानी मुहैया करवाया जाएगा। 

*पूरे जिले को शामिल करवाने की कोशिश*
सांसद संतोष अहलावत ने बताया कि अधिकारियों से मिली जानकारी के मुताबिक अभी तक झुंझुनूं जिले के आधे क्षेत्र को सिंचाई और आधे क्षेत्र को पीने के पानी मुहैया करवाने की योजना है। लेकिन पूरे जिले को दोनों ही तरह के पानी मुहैया हो। इसके लिए वे लगातार केंद्र व राज्य सरकार के संपर्क में हैं।

*केंद्रीय मंत्री, सीएम और जल संसाधन मंत्री का जताया आभार*
डीपीआर का कार्य अंतिम चरणों में चलने के बाद अब सांसद संतोष अहलावत ने अलग-अलग पत्र लिखकर केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी, मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और जल संसाधन मंत्री डॉ. रामप्रताप का इसके लिए आभार जताया है। साथ ही लोकसभा क्षेत्र के लिहाज से इस योजना में मामूली परिवर्तन करने और इसे और अधिक जनोपयोगी बनाने के लिए भी सुझाव दिए है। 

*चुनावों में अब मुद्दा नहीं रहेगा नहर : अहलावत*
पत्रकारों से बातचीत करते हुए सांसद संतोष अहलावत ने कहा कि उन्होंने लोकसभा चुनावों के वक्त ही क्षेत्र की जनता से नहरी पानी लाने का वादा किया था। उन्होंने वादा ब्रॉडगेज और सैनिक स्कूल के भी किए थे। जो उन्होंने पूरे कर दिए है। अब नहरी पानी का वादा भी पूरे होने का है। इसलिए उन्हें विश्वास है कि आने वाले लोकसभा चुनावों में अब नहर की बजाय विकास मुद्दा होगा और भाजपा को वादे पूरे करने के लिए क्षेत्र के लोग पहले से ज्यादा मतों से विजयी बनाएंगे।

Share This