सोशल मीडिया का इस्तेमाल जिम्मेदारी के साथ करें: सांसद अहलावत

खबर - संतोष अहलावत 
सूरजगढ़। सांसद संतोष अहलावत ने मंगलवार को संसद में मानसून सत्र के पांचवे दिन सरकार से सोशल मीडिया के माध्यम से अफवाहेंफ़ैलाने वालों पर अंकुश लगाने से संबधित प्रश्न पुछा।सांसद संतोष अहलावत ने अतारांकित प्रश्न के माध्यम से केंद्रीय गृह मंत्रालय से सरकार द्वारा सोशलमीडिया विशेष कर व्हाट्सप्प के माध्यम से अफवाहें फ़ैलाने को रोकने से लिए सरकार द्वारा उठाये जा रहे क़दमों के बारे में जानकारी मांगी। सरकार कीतरफ से केंद्रीय गृह राज्य मंत्री हंसराज गंगाराम अहीर द्वारा जानकारी दी गयी की सरकार, अफवाह फैलाने के लिए गलत जानकारी और दुर्भाग्यपूर्ण सामग्रीके संचालन के लिए, सोशल मिडिया के दुरूपयोग के बारे में जागरूक है। पुलिस और लोक व्यवस्था भारत के संविधान के अनुसार राज्य के विषय है औरराज्य मुख्य रूप से अपने कानून प्रवर्तन तंत्र के माध्यम से इस तरह के अपराध की रोकथाम, पहचान और जांच के लिए प्राथमिक तौर पर जिम्मेदार। सम्बंधितराज्य सरकार दूरसंचार सेवाओं के अस्थायी निलंबन (लोक आपातकालीन या सार्वजनिक सुरक्षा) नियम 2017 में निहित प्रावधानों के तहत राज्य में कानून औरव्यवस्था बनाए रखने के लिए इंटरनेट के अस्थायी निलंबन के आदेश जारी करती है और भारतीय दंड सहित और सूचना प्रद्योगिकी अधिनियम 2000 कीप्रासंगिक धाराओं के अनुसार अपराधियों के खिलाफ कानूनी कार्यवाही करती है।
सोसियल मिडिया के प्रयोग में बरते सावधानी 
पत्रकारों से बातचीत में सांसद अहलावत ने कहाँ की आज का युग इंटरनेट का युग है। इंटरनेट की मद्दद से हमारी जिंदगी आज काफी आसान हो गयी है,संसार बहुत छोटा हो गया है। इंटरनेट की एक क्लिक से हम अपनी जरुरत को पूरा कर रहे है। परन्तु जहाँ इंटरनेट ने हमे इतना कुछ दिया है वही हमे इसकेइस्तेमाल को लेकर बहुत संवेदनशील होना पड़ेगा। असामाजिक तत्वों द्वारा देश में अशांति फ़ैलाने में इस का भरपूर उपयोग किया जा रहा है। विशेषकरअगर बात करें व्हाट्सप्प की  तो यह सबसे आसान और असरदार माध्यम साबित हुआ है। अब हम सब की बारी है की हम सब मिलकर अपनी जिम्मेदारी कोसमझे और इंटरनेट/सोशल मीडिया का इस्तेमाल जिम्मेदारी के साथ करें। व्हाट्सप्प के किसी भी मैसेज तो फॉरवर्ड करने से पहले ध्यान से देखे और विचारकरें की जो जानकारी आपको मिली है वो किसी व्यक्ति/समाज/राज्य आदि के लिए नुकसान दायक तो नहीं। किसी भी मैसेज को विशेषकर ग्रुप्स में बिनाकिसी जांचपड़ताल के फॉरवर्ड न करें। सोशल मीडिया हमे आपस में जोड़ने के लिए बनाई गयी है ना की आपस में लड़ाने और अफवाहे फैलाने के लिए ।

Share This