आदिवासीयों की समस्याओं से कराया रुबरु

खबर - विकास कनवा 
धानका जाति एसटी में नही एससी में है, प्रमाण-पञ बंद करो- सुरेश मीणा
जनजाति आयोग के मुखिया डामोर से मिले सुरेश मीणा
उदयपुरवाटी:- प्रदेश के आदिवासीयों की समस्याओं के निस्तारण के लिए शुक्रवार एंव शनिवार को जयपुर आये राष्ट्रीय जनजाति आयोग भारत सरकार के सदस्य एंव राजस्थान सहित कई राज्यों के प्रभारी पूर्व IAS एच. के. डामोर से राष्ट्रीय मीन सेना के प्रमुख सुरेश मीणा किशोरपुरा ने मुलाकात की! किशोरपुरा के नेतृत्व में पहुचे जनजाति समाज के शिष्टमंडल ने डामोर को ज्ञापन देकर शेखावाटी सहित प्रदेश के जनजाति समाज की विभिन्न समस्याओं से रुबरु करवाया! उन्होनें बताया की झुंझुनू, सीकर, चुरु जिले के कलेक्टर निरंतर धड़ाधड़ धानका जाति के लोगों को एसटी के प्रमाण-पञ बनाकर दे रहे हैं जो सरासर अन्याय हैं उन्होनें बताया कि राजस्थान सरकार से लेकर जिला कलेक्टरों को बार-बार बताया जा चुका है कि धानका एंव धाणका एससी वर्ग में आता है शुरु से ही यह लोग अनुसूचित जाति वर्ग का लाभ ले रहें है जिससे सैकड़ों उदाहरण देखे जा सकते है! प्रदेश में बाबूलाल खांडा जो सूरजगढ से विधायक रहे बाद में मंञी बने वो एससी वर्ग सीट से बने इसी प्रकार बस्सी से अंजू धानका एससी आरक्षित सीट से विधायक रह चुकी है इसी प्रकार बड़ी संख्या में एससी सीटों पर कई सरपंच, प्रधान, पंचायत समिती सदस्य रह चुके है! उन्होनें एससी/एसटी वर्ग पर आरक्षण पर प्रहार करने वालों को सबक सिखाने व एससी/एसटी के हितों की रक्षा के लिए अलग से कानून बनाने की मांग की उन्होनें एससी/एसटी के खिलाफ आंदोलन व अत्याचार करने वालो के खिलाफ भी अभियान चलाने की मांग की! इस मौके पर राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के राजस्थान के निर्देशक डॉ. ललित लट्टा और राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के भारत सरकार के सदस्य एंव राजस्थान प्रभारी एच. के. डामोर को 11 सूञी मांगो का मांग पञ सौपा! शिष्टमंडल में रेल्वे अधिकारी एंव समाजसेवी सुरज्ञानसिंह मीणा नीमकाथाना, बिलु मीणा गांवली, पार्षद आलोक मीणा, विजय मीणा, रामसहाय किवाड़ा निवाई, मुरारी मलारना चौड़, सुनिल करेड़ा सहित कई जनजाति समुदाय के लोग उपस्थित थे!

Share This