अब कांटो भरा ताज, चुनौतियां से पार करने की जुगत

खबर - प्रशांत गौड़ 
-गहलोत -पायलट की जोड़ी तीन माह में दिखाना होगा कमाल
-मंत्रीमंडल में चलेगी गहलोत की, वरिष्ठों को मिलेगी तरजीह
-युवाओं को सौंपे जाएंगे राज्यमंत्री के प्रभार
जयपुर। राजस्थान में जननायक,मारवाड़ का गांधी नाम से अपनी पहचान बना चुके अशोक गहलोत के प्रदेश के तीसरी बार मु यमंत्री बनने जा रहे है। इस बार उनके साथ जोशीले प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट का डिप्टी सीएम के रूप में साथ है। दिस बर माह से दोनों की जोड़ी के समक्ष चुनौतियां पेश होगी। किसानों को 10 दिन में कर्जामाफी का फार्मूला और उसको लागू करना आसा नहीं  होगा वहीं लोकसभा चुनाव से पहले बेराजगारी, महिला सुरक्षा, बाड़मेर रिफाइनरी, मेट्रो फेज -2 प्रोजेक्ट सहित राज्य कर्मचारियों को संतुष्ट करने का काम कांटे भरा है। अब इस कांटे भरे ताज पर एक लंबा अनुभव और एक जोश और काम करने की बुलंद हसरत कितना कमाल दिखाती यह कुछ माह में सामने आ जाएगा।
अशोक गहलोत के मु यमंत्री के रूप में सामने आने के बाद अब मंत्रीमंडल की सूरत भी तय होने लगी है। इनमें वो चेहरे खास माने जा रहे है जो अशोक गहलोत के खासा नजदीक माने जाते रहे तो युवा जोश का भी समावेश इस मंत्रीमंडल में होगा हालांकि अनुभव को तरजीह देते हुए मु य विभाग वरिष्ठों के पास ही होंगे।
विधानसभा अध्यक्ष पर कई नाम पर चर्चा
प्रदेश के नए विधानसभा अध्यक्ष फिर दीपेन्द्र सिंह शेखावत ही होंगे या यह जि मेदारी किसी और अनुभवी विधायकों को मिलेंगी इसकी चर्चा कांग्रेसी गलियारों में है। इसमें वरिष्ठ अनुभवी विधायकऔर केबिनेट मंत्री रहे डॉ जितेन्द्र सिंह, यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल,हेमाराम चौधरी का नाम चर्चा में है।
महेश जोशी और लालचंद कटारिया का केबिनेट मंत्री बनना तय
जयपुर के दिग्गज ब्राह्मण नेता और कार्यकर्ताओं में अजीज डॉ महेश जोशी का अब केबिनेट मंत्री बनाना तय माना जा रहा है। वह कई बार विधायक रहने ेक साथ सांसद रह चुके  है वहीं जयपुर में कांग्रेस कार्यकर्ताओं में उनकी खासा पकड़ है। वहीं झोटवाड़ा से लालचंद कटारिया जाट समाज से कद्दावर नेता होने के साथ जयपुर देहात में कार्यकर्ताओं में गहरी पकड़ है उनको भी केबिनेट प्रभार मिलना तय है। संभावना यह भी है कि यूडीएच मंत्री इस बार जयपुर से हो।
रघु शर्मा को मिलेगी अहम कमान 
केकडी से हर दिल अजीज अनु ावी कद्दावर नेता डॉ रघु शर्मा ने पहले अजमेर लोकसभा सीट इसके बाद केकड़ी से विधायक सीट कांग्रेस की झोली में डाली है। कांग्रेस प्रचार कमेटी की जि ोदारी बखूबी निभाई उनको केबिनेट मंत्री बनाना लगभग तय है और कोई अहम विभाग उनके पास होगा। रघु शर्मा सचिन पायलट और अशोक गहलोत दोनों के साथ काम करने का अनुभव और दोनों के साथ उनके संबंध अच्छे है।
शेखावटी का दिखेगा दबदबा
इस बार मंत्रीमंडल में शेखावटी का दबदबा दिख सकता है। शेखावटी से इस बार कद्दावर नेता चुनकर आए है। जिनमें परसराम मोरदिया कांग्रेस के दिग्गज अनुभवी नेता वह पहले राजस्थान हाउसिंग बोर्ड के अध्यक्ष भी रह चुके है। दीपेन्द्र सिंह शेखावत ऐसे अनु ावी विधायक है जिन्होंने पांच साल विधानसभा अध्यक्ष के तौर पर बड़े अनुशासन और संयमता से चलाया है। उनके मृदुल व्यवहार के धनी है। वही बृजेन्द्र सिंह ओला भी पूर्व में गहलोत सरकार में मंत्री रहे है। उनका भी दावा बेहद मजबूत है। डॉ जितेन्द्र सिंह हर दिल अजीज है। गहलोत सरकार के सबसे सादगी वाले विधायक रहे है उनका केबिनेट मंत्री बनना लगभग तय है। नवलगढ़ विधायक डॉ राजकुमार शर्मा  अशोक गहलोत की गुडबुक्स में है। उनके व्यवहार के सत्ता पक्ष नही विपक्ष उनका कायल रहा है। वह पहले चिकित्सा राज्यमंत्री रहे है। उन पर चुनाव पर लगाए गए बेबुनियाद आरोपों के बावजूद उन्होंने बड़ी जीत दर्ज की है। उनको मंत्री बनना ाी लगभग तय माना जा रहा है। वहीं चूरू से आने वाली कृष्ण पुनिया तेजस्वी नेता है। वह कांग्रेस में अहम पदों पर रह चुकी है। सादुलपुरा से विधायक है। उनको भी मंत्रीमंडल में जगह मिलना तय माना जा रहा है। इसके साथ अशोक गहलोत के खास रहे विधायक प. भवरलाल शर्मा को भी मंत्रीमंडल में लिया जाएगा या ऐसा नहीं होने पर किसी बोर्ड की जि ोदारी दी जाएगी। नरेन्द्रा बुढानिया का भी सरकार में आना तय माना जा रहा है।
अलवर से शुकंतला रावत का मंत्री बनना तय
बांसुर विधायक और पिछले पांच साल में आक्रामक तौर पर विपक्ष को घेरती रही बांसूर विधायक का मंत्री बनना लगभग तय है। उनको महिला बाल विकास मंत्रालय भी मिल सकता है। इसके साथ वरिष्ठ विधायक टीकाराम जुली को भी सरकार में जगह मिल सकती है।
मालवीय,भाया,रामलाल जाट भी शामिल होंगे सरकार में 
बांसवाडा जिले से आने वाले महेन्द्रजीत सिंह मालवीय का सरकार में केबिनेट मंत्री बनना तय माना जा रहा है। वह वरिष्ठ अनुभवी विधायक रहने के साथ पूर्व में गहलोत सरकार में मंत्री रह चुके है। बारा जिले के अंता से विधायक प्रमेाद जैन भाया पहले भी पीडब्यूडी मंत्री रह चुके है उनके दावेदारी पु ता मानी जा रही है। वहीं भीलवाड़ा जिले से रामलाल जाट का भी मंत्री बनाना तय माना जा रहा है।

भरतपुर का भी दिखेगा दबदबा 
इस मंत्रीमंडल में भरतपुर जिले का भी दबदबा दिख सकता है। यहां से कद्दावर नेता विश्वेन्द्र सिंह को सरकार में बेहद अहम विभाग सौंपा जा सकता है। जाहिदा खान भी यहां से सरकार में शामिल हो सकती है वहीं वैर से भजनलाल जाटव का भी मंत्री बनाना लगभग तय है।
बीडी कल्ला का केबिनेट मंत्री बनाना तय
बीकानेर से जीतकर आए कांग्रेस के कद्दावर विधायक बीडी कल्ला का भी मंत्री बनना लगभग तय माना जा रहा है। वह पहले शिक्षा मंत्री रहने के साथ कांग्रेस में अहम पदों पर रह चुके है। अशोक गहलोत के खास माने जाते है। वहीं बूंदी से विधायक अशोक को भी सरकार में शामिल किया जा सकता है। चितौडगढ़ के नि बाहेडा से विधायक अंजना उदयलाल का भी नाम तय माना जा रहा है। 
अशोक चांदना,कुन्नर, विनोद कुमार भी चर्चा में 
विधायक अशोक चांदना, विधायक गुरूमीत सिंह कुन्नर और विधायक विनोद कुमार भी सरकार का चेहरा बन सकते है। वही जमुवाराम गढ़ से विधायक गोपाललाल मीणा, किशनपोल विधायक अमीन कागजी, बगरू विधायक गंगा देवी भी सरकार में शामिल हो सकती है। इसके साथ दिव्या मदेरणा भी सरकार में शामिल हो सकती है। वहीं प्रतापसिंह खाचरिवास का भी सरकार में शामिल होना तय माना जा रहा है।

सी पी जोशी , गजेन्द्र सिंह शक्तावत, हरीश चौधरी का केबिनेट मंत्री बनना तय 


नाथद्वारा विधायक सीपी जोशी और वरिष्ठ विधायक हरीश चौधरी का भी केबिनेट मंत्री बनना लगभग तय माना जा रहा है। उनको कोई खास विभाग मिल सकता है। वह कांग्रेस के कद्दावर नेता होने के साथ ब्राह्मण समाज मेंअपना खास दबदबा रखते है। वही हकुमअली खान भी सरकार में शामिल हो सकते है। वहीं कद्दावर विधायक गजेन्द्र सिंह शक्तावत का भी केबिनेट मंत्री बनना लगभग तय माना जा रहा है।

Share This