तीन दिन की माथापच्ची बाद मंत्रीमंडल का खांका तय

खबर - प्रशांत गौड़ 
,दिग्गज नेताओं को सूची में न आना चौकान्ने वाला
-करीब 23 मंत्री लेंगे शपथ
जयपुर। लंबी जद्दोजहद के बाद आखिरकार गहलोत सरकार का मंत्रीमंडल तय हो गया। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के बीच आधा दर्जन से ज्यादा नामों पर सहमति नहीं बनने और कुछ नामों पर टकराव आने के कारण लिस्ट को तय होने में तीन दिन का समय लग गया। ऐसे में इस टकराव में वो दिग्गज नाम धुल गए जिनका पहले मंत्रीमंडल शपथ ग्रहण में नाम लगभग तय माना जा रहा था।इसमें वरिष्ठ अनुभवी नेताओं के साथ विधायक के तौर पर 10 से 15 साल से सक्रिय जनप्रतिनिधियों को भी मंत्रीमंडल में जगह मिली है। सोमवार सुबह 11.30 बजे राजभवन में यह मंत्री शपथ लेंगे।
रविवार शाम जब चुनिंदा विधायकों के पास प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे का फोन पहुंचा तो यह तय हो गया कि यह विधायक अब कल मंत्री पद की शपथ लेंगे।सोमवार को शपथ लेने वाले मंत्रियों में बीडी कल्ला, रघु शर्मा, शांति धारीवाल, लालचंद कटारिया, प्रमोद जैन भाया, परसादीलाल मीना, विश्वेन्द्र सिंह, हरीश चौधरी,रमेश मीना, मास्टर भंवरलाल, प्रतापसिंह खाचरियावास, उदयलाल आंजना और सालेह मोहम्मद शामिल हैं। इनके साथ गोविंद सिंह डोटासरा, ममता भूपेश, अर्जुन बामणिया, भंवर सिंह भाटी, सुखराम बिश्नोई, अशोक चांदना, टीकाराम जुली, भजनलाल जाटव, राजेन्द्र यादव और सुभाष गर्ग भी सोमवार को मंत्री पद की शपथ लेंगे। इसके साथ तीन से चार संसदीय सचिव भी बन सकते है।
सूची से बार-बार नाम कटें
इस सूची में अशोक गहलोत और पायलट खेमे से आने वाले कई बड़े चेहरे जगह नहीं बन सके है। जिनका नमा नहीं आना चर्चा का विषय बन चुका है। इन तीन दिन में कई बार नाम  जुडऩे के साथ कटने का खेल हुआ। पायलट उनको नामों को बराबर त्वज्जो दिए जाने की बात पर अड़े रहे इसके बाद लिस्ट में उन नेताओं को खामियाजा भुगतना पड़ा जिनके पास सरकार में रहने का अच्छा अनुभव के साथ व्यापक जनाधार वाले नेता है।
यह दिग्गज उड़ गए
मंत्रीमंडल के शपथ ग्रहण में अब इन विधायकों का इंतजार लंबा हो गया है। इसमें दीपेन्द्र सिंह शेखावत जो पूर्व विधानसभा अध्यक्ष रहे उनका नाम तय माना जा रहा था लेकिन अब संशय में है वहीं हवामहल से महेश जोशी जो जयपुर कांग्रेस का बड़ा चेहरा रहे है उनके नाम पर अब बड़ा संशय है। परसराम मोरदिया का मंत्रीमंडल में शामिल होना लगभग तय माना लिया गया था लेकिन अब सूची से बाहर बताए जा रहे है। इसके साथ राजेन्द्र पारीक,भरत सिंह के नाम पर संशय  है। वहीं नवलगढ़ से व्यापक जनाधार का चेहरा डॉ राजकुमार शर्मा लिस्ट से बाहर है। बृजेन्द ओला और जाहिदा खान पायलट खेमे से थे दोनो का नाम दौड़ से बाहर है। वहीं ब्राह्मण समाज  का बड़ा चेहरा भवरलाल शर्मा भी दौड़ से बाहर होना चर्चा का विषय बना रहा। इसके साथ बाबूलाल नागर,महादेव सिंह खंडेला,रुपाराम, अमीन कागजी, शुकंतला रावत भी सूची से  बाहर हो गई। यह भी चर्चा है कि जिनको मंत्रीमंडल में जगह नहीं मिली है उनको किसी बोर्ड या आगामी मंत्रीमंडल विस्तार या लोकसभा में भेजा जा सकता है।
राहुल गांधी का युवाकार्ड

मंत्रीमंडल में कई अनुभवी चेहरे उड़ गए और यूथ को  त्वज्जो मिल गई माना जा रहा है कि सचिन पायलट के दवाब और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के यूथ को भी सरकार में लेने के फोकस के चलते युवा चेहरों को पूरी तरजीह मिली हालांकि मंत्रीमंडल में एक ही महिला चेहरा पूरी तरह तय होना चौकान्ने वाला रहा।

Share This